बरसात से हुए नुकसान का आकलन करे प्रसाशन: संदीप सांख्यान

जिला कांग्रेस के महासचिव संदीप सांख्यान

अभिषेक मिश्रा/बिलासपुर

पिछले कुछ दिनों से हो रही बारिश से जिला बिलासपुर में जो भारी नुकसान हुआ है उसका जिला प्रसाशन को जायजा ले कर प्रभावित हुए लोगो को तुरंत राहत पहुँचाई जानी चाहिए यह कहना है जिला कांग्रेस के महासचिव संदीप सांख्यान का। संदीप सांख्यान में कहा कि जिला में दो बार तेज हवाएं चलने व बरसात की वजह से मक्की की फसल टूट कर सड़ रही है जिससे किसानों की मेहनत बेकार हो चुकी है ऊपर से कोविड 19 का कहर भी है तो किसानों के हालात और ज्यादा खराब हैं। जिले में भारी बरसात से लोगों की घरों और गौशालाओं को भी नुकसान हुआ है उसका भी फौरी तौर पर प्रसाशन को को जायजा लेकर जिला के प्रभावित लोंगो को मदद करनी चाहिए।

                    जिला कांग्रेस के महासचिव संदीप सांख्यान

जिला में बड़ी खड्डों में खास कर अली, गंभर, गमरोला, सीर, शुक्र, सरयाली का जलस्तर बढ़ा है जिसके कारण भूमि कटाव और उनके किनारे पर रहने वाले बाशिंदों और मवेशियों को भी नुकसान पहुंचा है। जिला की तकरीबन अस्सी प्रतिशत पगडंडियों की हालत खराब हो चुकी है और संपर्क मार्गों की भी हालत बरसात की वजह काफी खराब हो चुकी है जिसका जायजा लेकर जल्द मुरम्मत करवाई जानी चाहिए।

इसके अलावा राष्ट्रीय उच्च मार्ग चंडीगढ़-मनाली व शिमला- धर्मशाला को भी काफी नुकसान हुआ है इन पर भूस्खलन का खतरा बड़ा है और भारी मात्रा में खड्डे पड़े हैं। इन सम्पर्क मार्गों और राष्ट्रीय उच्च मार्गो की देख भाल भी जल्द करवाई जानी चाहिए। जिला प्रसाशन को चाहिए कि इस बरसात से हुए नुकसान पर आपातकालीन बैठक बुलाई जाए और जहां पर आपातकालीन स्थितियां है वहाँ फौरी तौर पर राहत पहुंचाई जाए। बाकी शेष नुकसान पर एक विस्तृत रिपोर्ट बना कर प्रदेश सरकार को दी जाए ताकि बरसात से हुए नुकसान से प्रदेश सरकार बिलासपुर के लिए बरसात से हुए नुकसान हेतु विशेष राहत पैकेज देने की मांग की जाती है। संदीप सांख्यान ने कहा बरसात हर वर्ष आती है तो प्रदेश सरकार को चाहिए कि इस बरसात से होने वाले नुकसान का मोटे तौर पर आकलन किया जा सकता है यदि कोई गंभीर हादसा नही हो तो, इसके लिए जिलावार एक अलग बजट का प्रावधान प्रदेश सरकारी को कर लेना चाहिए।

इसके साथ ही जिला प्रसाशन को देखना चाहिए की गोविंद सागर झील का जलस्तर भी बड़ी तेजी से बढ़ा है उसकी वजह से मछली व्यवसाय से जुड़े लोगों और दरिया को आर-पार करने वाले लोगों के लिए भी खास एहतियात बरतने की आवश्यकता है ताकि कोई बड़ा हादसा न हो। जिला प्रशासन को चाहिए कि बरसात के वजह से जो कुल नुकसान हो रहा है उसके प्रति सतर्कता बरतें और लोंगो को हुए नुकसान का आकलन करके उनको तुरंत मुआवजा दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here